Search
Close this search box.

पांचवी सोमवारी पर हर-हर महादेव के जयकारों से गूंज उठे शिवालय।

सांध्यकालीन सभी शिवालयों में भोलेनाथ को सुगंधित पुष्पों से उन्हें भव्य सृंगाए कराया गया।

सोनपुर– शहर से लेकर ग्रामीण क्षेत्र में सावन की पांचवी सोमवारी पर सुबह से लेकर देर शाम तक बारिश होने के बाद भी श्रद्धालुओं ने सोनपुर नारायणी नदी व पहलेजाघाट दक्षिण वाहनी गंगा नदी सहित अन्य जलाशयों में स्नान करने के उपरांत गंगाजलभरी कर बाबा हरिहरनाथ , गौड़ी शंकर मंदिर भरपुरा, नेहालनाथ शाहपुर,सोनपुर स्थित गजेंद्र मोक्ष, गजेंद्रनाथ गंगाजल, जड़भरत स्थान बैजलपुर, सोनपुर नारायणी नदी तट स्थित आप रूपी गौड़ी शंकर मंदिर सहित अन्य शिवालयों में जलाभिषेक करने के लिए श्रद्धालु भक्तों की भीड़ अहले सुबह से उमड़ पड़ी थी। ग्रामीण क्षेत्र के शिवालयों में उमड़ी हजारों भक्त श्रद्धालुओं ने शिवलिंग पर जलाभिषेक कर पूजा अर्चना किया तथा अपने परिवार व जनकल्याणार्थ मन्नतें मांगी। भक्त श्रद्धालुओं
में खासकर महिलाओं में काफी पूजा अर्चना व जलाभिषेक के लिए विभिन्न शिवालयों में काफी भीड़ देखी गयी । शिवालयों में
अहले सुबह से ही मंदिरों के घंटे बजने लगे और हर हर महादेव के जयकारों से शिवालय गूंज उठा। वातावरण पूरी तरह भक्तिमय हो गया। भक्तों की भीड़ को देखते हुए सुरक्षा के व्यापक इंतजाम सोनपुर प्रशासन द्वारा किए गए थे। हरिहरनाथ मंदिर में उभरती भीड़ को देखते हुए जगह -जगह पुलिस बलों को तैनाती किया गया था साथ ही श्रद्धलुओं को सुरक्षा व किसी प्रकार के कठिनाई न हो इसके लिए सीसीटीवी कैमरे लगाये गए थे साथ ही स्नान घाटों पर एसडीआरएफ व गोताखोरों को लगया गया था । स्वयं सोनपुर एसडीओ सुनील कुमार,एडिशनल एसपी अंजनी कुमार व हरिहरनाथ ओपी प्रभारी कुंदन तिवारी ,सोनपुर थानाध्यक्ष राजनदन,पहलेजाघाट ओपी प्रभारी विश्व मोहन राम हर गतिविधियों पर कड़ी नजर रखे हुए थे वही दूसरी ओर मंदिर में श्रद्धालुओं को किसी प्रकार की कोई परेशानी न हो, इसको लेकर मंदिर प्रबंधन के सदस्यों ने काफी जागरूकता और भक्तों की सहूलियत के लिए काफी प्रयासरत था। श्रद्धालुओं ने महादेव को दूध, दही, घी, गन्ना रस, जल से अभिषेक किया । वही संध्याकालीन में हरिहर नाथ मंदिर सहित अन्य सभी शिवालयों में मंदिरों को विभिन्न प्रकार के चाइनीज लाइट व सुगंधित फूल मालाओं से सजाया गया फिर बाबा भोलेनाथ के विभिन्न प्रकार के सुगंधित पुष्पों से बाबा को सजा कर उन्हें विधि विधान के साथ पूजा अर्चना किया गया । पूरा क्षेत्र भक्तिमय बना रहा । हर हर हर महादेव के साथ भजन कीर्तन और महा आरती का आयोजन विभिन्न शिवालयों में किया गया । आरती के उपरांत सभी भक्त जनों के बीच प्रसाद का वितरण किया गया ।

Leave a Comment

What does "money" mean to you?
  • Add your answer